Saturday, September 19, 2015

नई सुबह की आस बंधाती है ‘सुबेरौ घाम’

फिल्म समीक्षा
    ‘महिला की पीठ पर टिका है पहाड़यह सच, हालिया रिलीज गढ़वाली फीचर फिल्मसुबेरौ घामकीगौराको देखकर जरुर समझ जाएगा। वह पेड़ों को बचाने वालीचिपकोआंदोलन की गौरा तो नहीं। मगर, शराब के प्रचलन से उजड़ते गांवों को देख माफिया के विरूद्धइंकलाबकी धाद (आवाज) लगाती गौरा जरुर है। फिल्म में गौरा के अलग-अलग शेडस् पहाड़ी महिलाओं को समझने और समझाने की निश्चित ही एक अच्छी कोशिश है। बचपन कीछुनकानिडर गौरा बनकर गांवों में सुबेरौ घाम (सुबह की धूप) की आस जगाती है। वह पहाड़ों केभितरखदबदाती स्थितियों पर भी सोये हुए मनों मेंचेताळारखती है।
स्नोवी माउंटेन प्रोडक्शन की इस फिल्म की कहानी बरसों बादपंडवार्तदेखने के बहाने गौरा के ससुराल से अपने गांव बौंठी लौटते हुए शुरू होती है। जहां वह रास्तेभर बातचीत में बेटे बिज्जू को अपने बचपन की खुशियां, साहसिक किस्से, लोक परंपराएं और हिमालय के खूबसूरत नजारों कोविरासतकी तरह सौंपती जाती है। विवाह के 17 सालों तक देवी देवताओं की आराधना के बाद बिज्जू ने उसकी बांझ कोख में किलकारियां भरी थी, जो सुबेरौ घाम की मानिंद हमेशा उसके पल्लू से बंधा रहता है।
..और फिर बाबा (पिता) से ससुराली गांव की बातें करते हुए शुरू होती है, फिल्म की मूल कहानी। यानिदाणूमालदार के घर्या (घरेलू) उद्योग की देनअंगळ जोतकी दारू, और उससे बर्बाद होते घरों के किस्से... जिससे घर लौटा रिटायर्ड सुबेदार गजे सिंह भी नहीं बचता। दाणू के खिलाफ वह संघर्ष तो छेड़ता है, लेकिन खुद ही जाल में फंसकर गौरा की खुशियां छीनने का जिम्मेदार बन जाता है। मगर, गौरा विचलित होने पर भी शराब के विरूद्ध महिलाओं को एकजुट करइंकलाबछेड़ देती है। हालांकि, तब भी गौरा के घर लौटी खुशियां ज्यादा देर तक नहीं टिकती। मेले गया बिज्जू गजे सिंह की शराबी लत के कारण हादसे का शिकार हो जाता है।
यहीं से गौरा बिज्जू की आत्मा के आह्वान पर दाणू के खात्मे का तानाबाना बुनकर उसके गौरखधंधों से गांव को निजात दिलाती है। बिज्जू दोबारा किसी और की कोख में जन्म लेता है, और गौरा यशोदा की तरह उसे जीवन की लाठी बना लेती है। गौरा को उम्मीद बंधती है, किबुढ़ापे में बिज्जू उसे जरुर पीठ पर बोकेगा
सुबेरौ घामबदलते पर्वतजनों के बीच भाषा का सवाल भी सहज रखती है। जब गौरा मुंबई से गांव आई बालसखा कमला से बेहिचक कहती है, कितू हिंदी मा ब्वल्दी अपणि सी नि लगदी यह पलायन के बावजूद अपनी जड़ों से जुड़े रहने का आह्वान भी है।
केंद्रीय भूमिका में उर्मि नेगी ने बतौर अभिनेत्री और निर्माता फिल्म को बेहद सजाया, संवारा है। खासकर मां-बेटे के बीच के दृश्य जहां भावुक करते हैं, तो शराब के खिलाफ उसका विद्रोही तेवर रोंगेटे खड़े करता है। मगर, इस सब के बाद भी स्क्रिप्ट राइटिंग में वह कमजोर भी दिखी हैं। कारण, नायक बलराज नेगी, विलेन बलदेव राणा और हास्य अभिनेता घन्नानंद के अभिनय में ज्यादा नयापन नहीं दिखता। शायद उनकी अभिनय क्षमताओं के अनुरूप स्क्रिप्ट राइटिंग नहीं हो सकी है। तो, फिल्म में कई लंबे सीन भी अखरते हैं। फिल्म की एंडिंग पर भी जल्दबाजी दिखती है। उर्मि नेगी स्क्रिप्ट का जिम्मा किसी और को सौंपती, तो शायद फिल्म का कलेवर और निखर सकता था।
सुबेरौ घामके खूबसूरत फिल्मांकन को छोड़ दें, तो निर्देशक नरेश खन्ना भी फिल्म को पूरी तरह से बांध नहीं पाए। फिल्म कई जगह डाॅक्यूमेंट्री की तरह आगे बढ़ती है, तो इस बार नरेंद्र सिंह नेगी भी गीत संगीत में छाप नहीं छोड़ सके। हां, फिल्म के सबसे मजबूत पक्ष की बात करें, तो वह है इसकी कहानी और खूबसूरत पिक्चराइजेशन। केदारघाटी के बर्फीले कांठों से लकदक लोकेशन, शराब को केंद्र में रखकर पहाड़ी महिला के ईदगिर्द बुनी गई कहानी उसे दर्शकों सेदाददिलाती है। कुल जमा कई दशक बादसुबेरौ घामआंचलिक फिल्मों के लिए नई सुबह की धूप की मानिंद ही लग रही है।
समीक्षक- धनेश कोठारी
----------------------------------------------
Garhwali film, New Garhwali film, Garhwali film song, Garhwali film review, Garhwali film subero gham, Urmi negi, Naresh khanna, Baldev rana, Balraj negi, Ganesh viran, Narendra singh negi, Dhanesh Kothari. 

Popular Posts