16 June, 2019

शिकैत


https://www.bolpahadi.in/


धनेश कोठारी//

जिंदगी!
तू हमेसा समझाणी रै
मि बिंगणु बि रौं/ पर
माणि कबि नि छौं

जिंदगी!
तिन सदानि दिखै
उकाळ अर उन्दार/पर
मि उकळि कबि नि छौं

जिंदगी!
तेरा डेरा ऐन
उजाळु- अन्ध्यारु बि/ पर
मैं किवाड़ नि खोलि सक्यों

जिंदगी!
बग्त, गर्म्ल हक्क ह्वे
बर्खान् भीजि
ह्युंदिन् अळे बि / पर
तीन्दू कबि सुखै नि सक्यों

जिंदगी!
तेरु घैणु दगड़ू
आज बि दगड़ा / पर
मैं गौळा कबि भ्यंटे नि सक्यों

जिंदगी!
सैंदिष्ट छन
तेरा बाटा घाटा
तेरु बि क्य कसूर/ जब
मैं कबि हिटी नि छौं ...

©धनेश कोठारी

16 जुलाई 2019
ऋषिकेश, उत्तराखंड

0 comments:

Post a Comment

बोल पहाड़ी ब्लॉग तक पहुंचने और उसे पसंद करने के लिए आपका आभार।
- ब्लॉग की जानकारियां अपने मित्रों, परिचितों तक भी पहुंचाएं।

Popular Posts