Wednesday, October 18, 2017

दाज्यू मैं गांव का ठैरा


पहाड़ में रहता हूं गांव का ठैरा
दाज्यू में तो पीपल की छांव सा ठैरा

ओल्ले घर में हाथ बना है
पल्ले घर नेकर और डंडा 
मल्ले घर में हाथी आया
तल्ले घर कुर्सी का झण्डा

पहाड़ में रहता हूं गांव का ठैरा
दाज्यू में तो पीपल की छांव सा ठैरा

प्रशासन दावत पर अटका
मतदाता रावत पर अटका
छप्पन लेकर सुस्त पड़े हैं 
कौन लगाए बिजली झटका

पहाड़ में रहता हूं गांव का ठैरा
दाज्यू में तो पीपल की छांव सा ठैरा

अंग्रेजी गानों में करते
पधान जी भी हिप हॉप
जीलाधीस कुर्सी में बैठे
चूस रहे हैं लालीपॉप

पहाड़ में रहता हूं गांव का ठैरा
दाज्यू में तो पीपल की छांव सा ठैरा

शराब माफिया चंवर ढुलाए
खनन माफिया आरत गाए
दिल्ली से दिल लगी राज की
जनता से ताली पिटवाए

पहाड़ में रहता हूं गांव का ठैरा
दाज्यू में तो पीपल की छांव सा ठैरा

चीनी कटक हुआ सब महंगा
महंगी हो गई गेहूं रोटी
गाडी से हूटर हटवाकर  
नोच रहे चुपके से बोटी

पहाड़ में रहता हूं गांव का ठैरा
दाज्यू में तो पीपल की छांव सा ठैरा

टूरिस्टों की टयामटुम
ठेकदार की रेलमपेल
बकरी सा जीवन है अपना
नेताओं की ठेलम ठेल

पहाड़ में रहता हूं गांव का ठैरा
दाज्यू में तो पीपल की छांव सा ठैरा


कवि- अनिल कार्की


अनिल कार्की का ही नोट :- एक तुकबन्दी! इस तुकबंदी के सभी पात्र और खुद तुकबंदी करने वाला भी काल्पनिक हैं। यह कहीं दूसरे ग्रह की बात है अपने उत्तराखंड की नहीं उत्तराखंड से इन घटनाओं का संयोग महज इत्तफाक होगा, तो महाराज सुनो !  

Popular Posts

Blog Archive