Tuesday, September 12, 2017

अथ श्री उत्तराखंड दर्शनम्

नेत्र सिंह असवाल

https://bolpahadi.blogspot.in/
जयति जय-जय देवभूमि, जयति उत्तराखंड जी
कांणा गरूड़ चिफळचट्ट, मनखि उत्तणादंड जी।

तेरि रिकदूंल्यूं की जै-जै, तेरि मुसदूल्यूं की जै
त्यारा गुंणी बांदरू की, बाबा बजि खंड जी।

इक मिनिस्टर धुरपिळम् पट, एक उबरा अड़गट्यूं
हैंकू खांदम नप्प ब्वादा, धारी म्यारू डंड जी।

माट मंग ज्वन्नि व मेंहनत, मोल क्वी नी खेति कू
यू बुढ़ापा पिनसन छ, रोग जमा फंड जी।

मुंड निखोळू करिगीं बगतळ, ऊ भगत त्यरा तरि गईं
जौंकि दुयया जगा टंगड़ी, ऊंकि अकळाकंड जी।

दुख दलेदर कष्ट मिटलो, नौनु बूंण जालु जी
गांणि-स्याणि-ताणि निशिदिन, रीटिगे बरमंड जी।

परदेस अपणू देस अभि भी, अभि भि देसी’ ‘पहाड़िजी
बत्तीस सीढ़ी कुरदराकी, अभि भि घळचाघंड जी।

Popular Posts

Blog Archive